अधिगम स्थानांतरण

अधिगम स्थानांतरण (Transfer of Learning)

पहले से सीखा गया कार्य (पूर्व अधिगम) द्वारा नये अधिगम पर सकारात्मक अथवा नकारात्मक प्रभाव अधिगमस्थानांतरण कहलाता है।

अर्थात पहले से सीखी गई कोई विषयवस्तु का प्रभाव नई सीखे जाने वाली विषय वस्तु पर पड़ता है, तो इसे अधिगम का स्थानांतरण कहते है।

जैसे साइकिल चलाना सीखने के बाद मोटरसाइकिल सीखना, गणितीय विधियों का प्रयोग विज्ञान के आंकिक प्रश्न हल करने में करना आदि।

अधिगम स्थानांतरण के प्रकार (Types of Transfer of Learning)

अधिगम का स्थानांतरण निम्न प्रकार का होता है-

  1. सकारात्मक  (Positive Transfer of Learning)
  2. नकारात्मक  (Negative Transfer of Learning)
  3. शून्य  (Zero Transfer of Learning)

 

अधिगम के प्रकार

 

सकारात्मक अधिगम स्थानांतरण (Positive Transfer of Learning)

पूर्व अधिगम(Learning) यदि नए अधिगम में सहायता करें यानी पहले से सिखा हुआ कार्य नए काम को सीखने में मदद करे तो इसे सकारात्मक अधिगम या धनात्मक अधिगमस्थानांतरण कहते हैं जैसे गणित के अंकों का ज्ञान जोड़, बाकी, गुणा, भाग आदि में सहायता करता है। अंग्रेजी के शब्दों का प्रयोग विज्ञान विषय में करना

 

 

नकारात्मक अधिगम स्थानांतरण (Negative Transfer of Learning)

पूर्व अधिगम यदि नई अधिगम में बाधा उत्पन्न करता है। यानी पहले से सिखा हुआ कार्य नए काम को सीखने में कठिनाई पैदा करें तो इस प्रकार का अधिगम का स्थानांतरण नकारात्मक या ऋणात्मक अधिगम((Learning)) स्थानांतरण कहलाता है। जैसे भारत में ड्राइविंग करने वाले व्यक्ति दाएं हाथ से गाड़ी चलाते हैं, यदि उनको यूरोपियन देशों में गाड़ी चलाना पड़े तो उनके लिए कठिन होता है।

 

शून्य स्थानांतरण (Zero Transfer of Learning)

यदि पूर्व अधिगम नए अधिगम में ना तो सहायता करें और ना ही किसी प्रकार की बांधा उत्पन्न करें तो इस प्रकार का अधिगम शून्य अधिगम (Learning) स्थानांतरण कहलाता है। जैसे गणित सीखने के बाद हिंदी भाषा का सीखना।

 

अधिगम वक्र एवं इसके प्रकार

 

अधिगम के स्थानांतरण के सिद्धान्त (Theories of Transfer of Learning)

लर्निंग से सम्बन्धित कुछ सिद्धान्त एवं उसके प्रवर्तक के नाम नीचे तालिका में दिए गये है-

क्रम संख्या सिद्धान्त प्रवर्तक
1. समान तत्वों का सिद्धान्त (Theory of Identical Elements)

 

थोर्नडाइक
2. दो-तत्वों (दूर-पास) का सिद्धान्त (Theory of Two Factor Near and Far)

 

स्पीयरमेन
3. पुर्णाकारवाद का सिद्धान्त (Gastalt Theory)

 

गेस्टाल्टवादी
4. सामान्यीकरण का सिद्धान्त (Theory of Generalization)

 

जड
5. औपचारिक अनुशासन का सिद्धान्त (Theory of Formal Discipline)

 

थोर्नडाइक
6. आदर्शो का सिद्धान्त (Theory of Ideals)

 

बागले

 

वेबसाइट कैसे बनाए यहा सीखिए- Click here

Our other website – PCB


If you like this post and want to help us then please share it on social media like Facebook, Whatsapp, Twitter, etc.

यदि आपको ये पोस्ट पसंद आई और आप चाहते हो हम ऐसी पोस्ट ओर भी डाले तो इसे शेयर करना ना भूले

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Logo
Register New Account
Name (required)
Phone No. (required)

Please provide your no with country code.

Country Name (required)

Type your country name.

Reset Password
Compare items
  • Total (0)
Compare
0